benefits of makhana Herbal Arcade
Herbs

मखाना (Makhana)

मखाना  का परिचय: (Introduction of Makhana)

Table of Contents

मखाना क्या है? (What is Makhana?)

क्या आपने मखाना के बारे में सुना है| मखाना को कमल का बीज भी कहा जाता है| प्राचीन काल से मखाना को धार्मिक पर्वों में उपवास के समय खाया जाता है| मखाना से मिठाई, नमकीन और खीर भी बनाई जाती है| मखाना पौष्टिकता से भरपूर होता है, क्योंकि इसमें मैग्ननेशियम, पोटाशियम, फाइबर, आयरन, जिंक आदि भरपूर मात्रा में होता है| आयुर्वेद में मखाना के बहुत सारे गुणों के बारे में विस्तार से उल्लेख किया गया है|

क्या आपको पता है की मखाना का प्रयोग किन किन बीमारी में किया जाता है|  इसका  केवल व्यंजन में  प्रयोग नही किया जाता है| ह्रदय संबंधित रोग, उल्टी, अतिसार आदि में इसका प्रयोग किया जाता है| इसके अलावा मखाना शारीरिक शक्ति को बढ़ाता  है| जिन पुरुषों को वीर्य संबंधी समस्या होती है, उनके लिए मखाना का सेवन फायदेमंद होता है| इसके सेवन से वीर्य दोष में सुधार होता है|

इसे यज्ञ में अन्न के रूप में प्रयुक्त किये जाने के कारण मखान्न कहा जाता है| इसका फल जल में होने के कारण पानीयफल कहलाता है|

इसके अलावा यह गर्भधारण करने में मदद पहुंचाता है, गर्भवती महिलाओ के लिए शक्तिवर्द्धक होता है| मखाना के बीज के सेवन से कामशक्ति बढ़ती है| आयुर्वेद में एक मुख्य औषधि के रूप में इसका प्रयोग किया जाता है| जिसके अनेको फायदे है| और आज आपको इसके  फायदों के बारे में विस्तार से परिचित करवाएंगे| चलिए इसके फायदों के बारे में जानते है|

बाह्य स्वरुप (आकृति विज्ञान) (Makhana ki akriti)

इसका पौधा काटेदार तथा कमल के समान होता है| यह पानी में पाया जाता है| इसके पत्ते कमल के समान, गोलाकार होते हैं, जो ऊपर से हरे, लेकिन नीचे से लाल या बैंगनी रंग के होते हैं|  इसके फल गोलाकार, कांटेदार तथा मुलायम तथा स्पंज वाले होते हैं| इसके बीज मटर के समान, या इससे कुछ बड़े होते हैं| फल संख्या में  8 से 20 तथा हल्के काले रंग के होते हैं| इसे कच्चा या भूनकर खाते हैं|  बालू में भूनने से यह फूल जाते हैं, जिन्हें मखाना कहा जाता है| इसका फूलकाल और फलकाल अगस्त से जनवरी तक होता है|

मखाना के पौषक तत्व (Makhana ke poshak tatva)

  • प्रोटीन
  • कार्बोहाईड्रेट
  • वसा
  • खनिज 
  • लवण
  • फॉस्फोरस 
  • लौह
मखाना  के सामान्य नाम (Makhana common names) Herbal Arcade
मखाना  के सामान्य नाम (Makhana common names) Herbal Arcade

मखाना  के सामान्य नाम (Makhana common names)

वानस्पतिक नाम (Botanical Name)Euryale ferox salisb
अंग्रेजी (English)FOX NUT
हिंदी (Hindi)मखाना, मखान्ना;
संस्कृत (Sanskrit)मखान्न, पद्मबीजाभ, पानीयफल, अंकलोड्य;
अन्य (Other)कंटपद्मा  (उड़िया) मखाना  (उर्दू) माखाना (बंगाली) मखाणा  (गुजराती) मेल्लुनिपदममु  (तेलगु) मख्ना  (नेपाली) जवेर  (मराठी) मखणे   (मराठी) सीवसट  (मलयालम) थान्गजिन्ग  (मणिपुर) मखाना लवाह  (अरबी) मुकरेष  (फारसी)
कुल (Family)Nymphaeaceae 

मखाना के आयुर्वेदिक गुण धर्म (Makhana ke Ayurvedic gun)

दोष (Dosha) 
वातपित्तशामक (pacifies vata and pitta)
रस (Taste)मधुर (sweet)
गुण (Qualities)गुरु (heavy), स्निग्ध (oily)
वीर्य (Potency)शीत (cold)
विपाक(Post Digestion Effect)मधुर (sweet)
अन्य (Others) शुक्रजनन, शुक्रस्तम्भन, दाहप्रशमन, बल्य
Ayurvedic properties of Makhana Herbal Arcade
Ayurvedic properties of Makhana Herbal Arcade

मखाना के औषधीय फायदे एवं उपयोग (Makhana ke fayde or upyog)

मधुमेह में उपयोगी मखाना (Makhana for diabetes)

  • आजकल की जीवन शैली में अक्सर बीमारियों का खतरा बढ़ता ही जा रहा है इसमे से एक मधुमेह की बीमारी भी है जो खराब भोजन करने  या किसी अन्य कारण से बढती ही जा रही है| इससे छुटकारा पाने के लिए मखान्न का प्रयोग किया जाता है| मखाना की शक्कर रहित खीर बनाएं|  इसमें सालम मिश्री का चूर्ण डालकर खाने से  मधुमेह में लाभ मिलता है|

अच्छी नींद में उपयोगी (Makhana for insomnia)

  • मखाना खाने से तनाव कम होता है और नींद अच्छी आती है| जिन लोगों को तनाव रहता है और इस कारण नींद नहीं आती उन्हें सोते समय गर्म दूध के साथ 5 से 6 मखाने खाने चाहिए|

खून बढ़ाने के लिए (Makhana for anemia)

  • जिन लोगों को खून की कमी है तो उनको  मखान्न का प्रयोग करना चहिए मखान्न खून बढ़ाने में मददगार साबित हो सकता है| इसमें पर्याप्त रूप से आयरन की मात्रा पाई जाती है| आयरन से शरीर में खून की कमी का खतरा काफी हद तक कम हो जाएगा

ह्रदय के लिए लाभकारी मखाना (Makhana for heart)

  • मखाना केवल शुगर के रोगियों के लिए ही नही बल्कि यह हार्ट अटेक जैसी गंभीर बीमारियों में भी  बहुत फायदेमंद  है|  इसके सेवन से ह्रदय एक दम स्वस्थ रहता है और पाचन शक्ति भी बढ़ाती है|

रक्तचाप में उपयोगी मखाना

  • उच्च रक्तचाप के लिए मखान्न लाभदायक होता है क्योंकि इसमें सोडियम की मात्रा कम और पोटैशियम की मात्रा ज्यादा पायी जाती है जो उच्च रक्तचाप को कम करती है|

कीडनी में

  • मखाने का उचित मात्रा में सेवन कीडनी को भी स्वस्थ रखने में सहयोग देता है| यह कीडनी की कार्य क्षमता को बढ़ा कर उनकी क्रिया को सामान्य बनाये रखने में मदद करता है|

मसुडो में उपयोगी

  • मखानों का प्रयोग मसूडो में होने वाली खून और सूजन की समस्या की दूर करने के लिए भी कर सकते है क्योंकि मखानों में कषाय और शीत गुण पाया जाता है जो कि खून को आने से रोकता है|

कान दर्द में उपयोगी मखाना (Makhana for blood pressure)

  • यदि किसी कारण वश कान दर्द कर रहा है तो मखान्न के बीजो का काढ़ा बनाकर एक या दो बूंद कान में डालने से कान दर्द का शमन होता है|

दस्त में उपयोगी (Makhana for diarrhea)

  • यदि कुछ उल्टा सीधा खाने की वजह से आपको दस्त की समस्या हो गई है तो मखाने को घी में भूनकर खाने से दस्त से छुटकारा मिलता है|

प्रमेह रोग में

  • आजकल इस रोग से लोग बहुत परेशान रहते है| यदि आप भी इस रोग से परेशान है तो मखाने की खीर बनाकर  इसमे मिश्री का चूर्ण मिलाकर खाने से प्रेमह रोग में लाभ मिलता है|

प्रसव के बाद दर्द में उपयोगी (Makhana for post pregnancy)

  • प्रसव के बाद महिलाओं को काफी दर्द होता है| यह असहनीय भी होता है| मखान्न के गुण ऐसे दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है| मखाना के पत्तों को पानी में डालकर काढ़ा बनाकर इसे पीने से प्रसव के बाद होने वाले दर्द से राहत मिलती है|

गठिया में (Makhana for gout)

  • आजकल बढती उम्र में गठिया एक आम बीमारी बन गई है| गठिया के कारण शरीर के जोड़ों, जैसे  पैर और हाथ आदि अंगों में बहुत दर्द होता है| मखाना के गुण से आप लाभ ले सकते हैं| इसके लिए मखान्न के पत्तों को पीसकर दर्द वाले जगह पर लगाएं|  इससे आपको  आराम मिलेगा |

कमजोरी दूर करने के लिए (Makhana for waekness)

  • शारीरिक कमजोरी की शिकायत कई कारणों से हो सकती हैं| आप मखान्न के सेवन से इसमें लाभ पा सकते हैं| मखाना के बीजों का सेवन करने से शारीरिक कमजोरी दूर होती है|

नपुंसकता को दूर करने के लिए

  • मखाने का सेवन करने से पुरुषों की नपुंसकता में भी कुछ हद तक लाभ पहुँचाया जा सकता है क्योंकि इसमें वृष्य यानि अंदरूनी शक्ति बढ़ाने का गुण होता है|  

उपयोगी अंग (भाग) (Important parts of Makhana)

  • पत्ती
  • बीज

सेवन मात्रा (Dosages of Makhana)

  • क्वाथ -10 से 15 मिली या चिकित्सक के अनुसार ही इसका प्रयोग करे|

Leave a Reply

Your email address will not be published.