saunf ke fayde Herbal Arcade
Herbs

सौंफ (Saunf)

शतपुष्पा (सौंफ) का परिचय: (Introduction of Saunf)

Table of Contents

सौंफ क्या है? (What is Saunf?)

इस औषधि का इस्तेमाल भारत की हर घर की रसोई में किया जाता है| मुख्य रूप से मसालों के रूप में इसका प्रयोग किया जाता है| यह अचार और भरवा सब्जी में लिया जाता है| क्या आपको पता है की जिस सौंफ का इस्तेमाल सब्जी या अचार में किया जाता है, उसका उपयोग कई सारी बिमारियों में भी किया जाता है| इससे मुँह की दुर्गन्ध, ज्वर जन्य उल्टी तथा आम दोष को ठीक किया जाता है|

क्या आपको यह भी पता है यह भोजन को पचाने तथा भूख को बढ़ाने में भी सहायक होती है| कईलोगों को शायद ही पता होगा की यह एक औषधि है जिसका उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा में लिया जाता है| इसकी तासीर ठंडी होने के कारण यह रोगो के लिए बहुत ही उपयोगी है|

इन औषधीय गुणों के कारण यह वात तथा पित्त को शांत करता है| क्या आप वीर्य की वृद्धि तथा ह्रदय के रोगो से परेशान है| इस परेशानी के लिए यह बहुत ही लाभकारी है| इसकेअलावा बुखार,गठिया, तथा वात के रोगो, घाव, सभी प्रकार के दर्द, आँखों के रोग, मुँहे के छाले, कब्ज की समस्या आदि में यह बहुत ही फायदेमंद है| इसी के साथ ही यह टी.बी की बीमारी, पेट के कीड़े, पेचिश, बवासीर आदि रोगो को ठीक करने से लिए सहायक है| आइये इसके अन्य फायदों के बारे में विस्तार से जानते है|

बाह्य स्वरुप (आकृति विज्ञान) (Saunf ki akriti)

इसका पौधा एक से डेढ़ मीटर तक ऊँचा खुशबूदार पौधा होता है| इसका तना सीधा ऊँचा होता है| इसके पत्ते बहुविभक्त खुशबूदार होते है| इसके पत्तो का उपयोग सब्जी बनाने में किया जाता है| इसके फूल खुशबुदार, छाते के आकार के समान होते है| यह पीले रंग के होते है| इसके फल नुकीले अंडाकार बेलनाकार तथा लम्बे भूरे रंग के होते है| इसका फूलकाल और फलकाल दिसम्बर से मार्च तक होते है|

सौंफ के सामान्य नाम (Saunf common names) Herbal Arcade
सौंफ के सामान्य नाम (Saunf common names) Herbal Arcade

सौंफ के सामान्य नाम (Saunf common names)

वानस्पतिक नाम (Botanical Name) Foeniculum vulgare
अंग्रेजी (English)Fennel fruit
हिंदी (Hindi)सौंफ, बड़ी सौंफ
संस्कृत (Sanskrit)छत्रा, शालेय, शालीन, मिश्रेया, मधुरिका, मिसि
अन्य (Other)पनमधुरी  (उर्दू) बड़ी सोपु (कन्नड़) वरीयाली  (गुजराती) सोपु (तेलगु) सोहिकिरे  (तमिल) मौरी  (बंगाली) सोम्पू (पंजाबी) पेरूमजीकम  (मलयालम)
कुल (Family)Apiaceae

सौंफ के आयुर्वेदिक गुण धर्म (Saunf ke Ayurvedic gun)

दोष (Dosha)  वातपित्तशामक (pacifies vata and pitta)
रस (Taste) मधुर (sweet), कटु (pungent), तिक्त (bitter)
गुण (Qualities) लघु (light), स्निग्ध oily
वीर्य (Potency) शीत (cold)
विपाक(Post Digestion Effect) मधुर (sweet)
अन्य (Others) मेध्य, दृष्टिशक्तिवर्धक, मूत्रल, वृष्य
Ayurvedic properties of saunf Herbal Arcade
Ayurvedic properties of saunf Herbal Arcade

सौंफ  के औषधीय फायदे एवं उपयोग (Saunf ke fayde or upyog)

मुँह की दुर्गन्ध को दूर करे सौंफ (Saunf for bad breath)

  • यदि आपको किसी बीमारी या खान पान की वजह से आपके मुंह में से बदबू आ रही है तो आपके लिए सौंफ का उपयोग बहुत ही फायदेमंद होता है| इसके लिए सौफ तथा मिश्री को मिलाकर सेवन करने से मुंह की बदबू तथा भोजन की अरुचि में खत्म होती है|

गठिया में (Saunf for gout)

  • सौंफ  वच, सहिजन, गोक्षुर, वरुण, सहदेवी, वर्षाभू, शटी, गंधप्रसारिणी, अग्निमंथ फल तथा हींग की बराबर मात्रा लें| इसे कांजी से पीसकर, थोड़ा गरम करके लेप करें| इससे गठिया रोग में दर्द और सूजन दोनों ही ठीक होते हैं|

मुंह के छालों में (Saunf for mouth ulcers)

  • अगर आपके मुंह में छाले हो रहे और दर्द भी हो रहा है तो राहत पाने के लिए सौंफ का काढ़ा बनाकर इसमे फिटकरी मिलाकर गरारे करने से मुंह के छालो में लाभ होता है|

वजन को कम करने के लिए (Saunf for weight loss)

  • फाइबर से भरपूर सौंफ बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में भी लाभदायक हो सकती है| यह न सिर्फ वजन कम करने में सहायक होती है, बल्कि शरीर में अतिरिक्त वसा को बनने से भी रोकती है| इसके लिए सौंफ की एक कप चाय पीने से भी बढ़ते वजन को रोका जा सकता है|

आँखों के विकार में सौंफ (Saunf for eyes)

  • सौंफ के पत्ते के रस में रूई को भिगोकर आँखों पर रखें। इससे आँखों की जलन, दर्द तथा लालिमा की परेशानी ठीक होती है|
  • इसके अलावा  सौंफ के चूर्ण में खसखस यानी पोस्त के दानों का चूर्ण मिला लें| इसे नियमित सेवन करने से आँखों के रोग ठीक होते हैं तथा आँखों की रोशनी बढ़ती है| सौंफ खाने से आँख के रोग में फायदा मिलता है|

जुकाम को दूर करने के लिए (Saunf for cold)

  • मौसम बदला नही और आपको जुकाम की समस्या हो गई है तो इसे छुटकारा पाने के लिए सौफ के काढ़े में खांड मिलाकर सेवन करने से जुकाम में लाभ होता है|

तनाव में (Saunf for stress)

saunf ke fayde Herbal Arcade
saunf ke fayde Herbal Arcade
  • जो लोग डिप्रेशन या तनाव से बुरी तरह ग्रस्त हैं| उनके लिए सौंफ का पीना काफी फायदेमंद होता है| इसके सेवन से दिमाग शांत हो कर बेहतर ढंग से काम करता है| साथ ही तनाव कम होने में मदद मिलती है|

मष्तिष्क के लिए (Saunf for brain)

  • यदि आपकी यादाश्त कमजोर है| और चीजे भूल जाते है तो सौंफ आपके लिए बहुत ही फायदेमंद है| इसमे कुछ ऐसे तत्व पाए जाते है जो यादाश्त को बढ़ाने का काम करते है|

पाचन तन्त्र को मजबूत बनाने के लिए (Saunf for strong digestion)

  • बहुत से लोगों को खासतौर पर बच्चों को अपच की समस्या रहती है| ऐसे में सौंफ का सेवन करना काफी फायदेमंद होता है| इसके लिए सौंफ को पानी में डाल कर इसमे मिश्री मिलाकर सेवन करने से पाचन तंत्र मजबूत होता है|

मासिकधर्म समय से न आने की परेशानी में सौंफ

  • यदि आपका मासिकधर्म समय से नही आता है| इसके कारण आपके पेट में दर्द होता या ऐंठने पडती है तो इससे छुटकारा पाने के लिए सौंफ का उपयोग काफी फायदेमंद होता है|

लीवर के लिए (Saunf for liver)

  • सौंफ का पानी पीना लीवर के लिए काफी फायदेमंद होता है| यह लीवर को एक दम स्वस्थ रखता है| लीवर संबंधित बीमारियों में भी यह काफी लाभ कारी है|

कैंसर की समस्या में (Saunf for cancer)

  • यदि आप कैंसर से पीड़ित है तो इसके लक्षणों के रोकने के लिए सौंफ का इस्तेमाल फायदेमंद होता है|

प्रतिरक्षा प्रणाली को बढाने के लिए (Saunf for strong immunity)

  • प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होने के कारण आप बार – बार बीमार हो जाते है. तो सौंफ का इस्तेमाल लाभकारी है| सौंफ में विटामिन सी पाया जाता है जो कि प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ करने में मदद करती है|

खून को शुद्ध करने के लिए (Saunf for blood purifier)

  • खून को साफ करने से लिए सौफ एक अच्छा स्रोत्र है|  यह मूत्र की प्रवृत्ति को बढ़ाते हुए शरीर से सभी विषैले पदार्थों को बाहर निकाल फेंकने में मदद करते हैं|

कोलेस्ट्रोल को नियंत्रण करने के लिए सौंफ  

  • कोलेस्ट्रॉल की मुख्य वजह पाचन का असंतुलित होना होता है। ऐसे में सौंफ में पाए जाने वाले दीपन गुण के कारण यह अग्नि को दीप्त कर पाचन को स्वस्थ करती है साथ ही कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी सहयोग देती है|

ह्रदय के रोगो के लिए (Saunf for heart disease)

  • यदि आप बढ़ते कोलेस्ट्रोल की वजह से ह्रदय के रोगो से परेशान है तो सौंफ के प्रयोग से ह्रदय के रोगो छुटकारा पा सकते है क्योकि इसमे कुछ ऐसे विटामिन पाए जाते है जो ह्रदय के लिए काफी अच्छे होते है|  

सिर दर्द में (Saunf for head ache)

  • यदि आपको सिर दर्द की समस्या है तो सौफ को पानी के साथ पीसकर सिर पर लगाने से सिर दर्द में आराम मिलता है|

सांस संबंधित समस्या में (Saunf for breathing problem)

  • अंजीर के साथ सौफ का सेवन करने से  से सूखी खाँसी, गले की सूजन तथा फेफड़ो के कैंसर में लाभ होता है|सौंफ के पत्तों के रस का सेवन करने से अस्थमा में लाभ होता है|

हकलाहट में लाभदायक सौंफ

  • सौंफ के काढ़े में मिश्री तथा गाय का दूध मिलाकर पिएं। इससे हकलाना की परेशानी कम होती है|

कब्ज से निजात (Saunf for constipation)

  • कब्ज की वजह से आपको किसी भी प्रकार की समस्या हो रही है तो सौंफ  की जड़ के चूर्ण का सेवन करने से कब्ज में लाभ होता है|

स्तनो के दूध की वृद्धि के लिए सौंफ

  • यदि किसी महिला के प्रसव के बाद स्तनों में दूध की वृद्धि की कमी हो रही है तो सौफ का इस्तेमाल करने से स्तनों में दूध की वृद्धि होती है|

पेट की समस्या में

  • यदि किसी को पेट दर्द की समस्या है तो सौंफ का इस्तेमाल करके पेट दर्द से छुटकारा पा सकते है|

पेचिश में सौंफ

  • गेहूँ के आटे में सौंफ मिलाकर उसकी बाटियाँ बनाकर अंगारों पर सेंकें| पकने के बाद उसे कूटकर मिश्री तथा घी मिलाकर सेवन करने से पेचिश के दर्द में आराम मिलता है|
  • चार भाग सौंफ चूर्ण में एक भाग इलायची चूर्ण तथा पाँच भाग मिश्री चूर्ण मिला लें| इसे उपयुक्त मात्रा में सेवन करने से पेचिश में शीघ्र लाभ होता है|

 मुंहासे में सौंफ

  • सौंफ को पीसकर मुंह पर लगाने से मुँहासे ठीक होते हैं, चेहरे की चमक बढ़ती है और रंग निखरता है| सौंफ त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है|

भूख बढाने के लिए (Saunf for increase hunger)

  • बराबर-बराबर भाग में सौंफ बिडंग, बनायं तथा काली मिर्च का चूर्ण लें| इसे गुनगुने पानी के साथ सेवन करने से भूख बढ़ती है|

छोटे बच्चो के रोगो में सौंफ

  • सौंफ का काढ़ा बनाकर इसमे नमक मिलाकर बालको पिलाने से बालको के सभी प्रकार के रोग समाप्त होते है|

दस्त में (Saunf for diarrhea)

  • खान – पान की गडबडी के कारण दस्त की समस्या है तो सौफ के पत्तो का रस पिने से दस्त की समस्या समाप्त होती है|

अनिद्रा (Saunf for insomnia)

  • यदि किसी टेंशन या तनाव के कारण आपको नींद नही आती है तो सौफ के काढ़े में गाय का दूध  तथा घी मिलाकर पिने से नींद अच्छी आती है|

उपयोगी अंग (भाग) (Important parts of Saunf)

  • बीज
  • पत्ते
  • जड़

सेवन मात्रा (Dosages of Saunf)

  • रस – 5 मिली
  • काढ़ा – 10 से 30 मिली
  • चूर्ण – 2 ग्राम  

सौंफ से निर्मित औषधियां

  • शतपुष्पादि चूर्ण
  • शतपुष्पार्क

Leave a Reply

Your email address will not be published.