कांचनार गुग्गुल के फायदे herbal arcade
औषधी दर्शन

कांचनार गुग्गुल: फायदे, सेवन Kanchnar guggul: Benefits

कांचनार गुग्गुल का परिचय Kanchnar guggul ka parichay

यह गुग्गुल आयुर्वेदिक औषधि होती हैं | इसका मुख्य प्रयोग कंठमाला रोग में किया जाता हैं | अर्बुद, गुल्म, कुष्ठ, भगंदर, केंसर जैसे रोगों में भी इस औषधि का प्रयोग लाभदायक होता हैं | वात और कफ कुपित होने के कारण उत्पन्न गांठो को इस औषधि की सहायता से समाप्त किया जा सकता हैं |यह औषधि टेबलेट अर्थात गोलियों के रूप में होती हैं | इन सब के अतिरिक्त भी इसके और कई फायदे हैं | इसका प्रमुख घटक कांचनार की छाल होने के कारण इसे कांचनार गुग्गुल कहा जाता हैं |

कांचनार गुग्गुल के घटक द्रव्य Kanchnar guggul ke ghatak

  • कंचनार की छाल
  • शुद्ध गुग्गुल
  • त्रिफला
  • त्रिकटु
  • वरना की छाल
  • इलायची
  • दालचीनी
  • तेजपात
kanchnar guggul contents herbal arcade
kanchnar guggul contents herbal arcade

कांचनार गुग्गुल बनाने की विधि Kanchnar guggul banane ki vidhi

कंचनार की छाल को उचित मात्रा में जल के साथ मिला कर इसका काढ़ा बना लें | चौथाई भाग शेष रहने पर इसमें शुद्ध गुग्गुल डाल कर इसमें धीमी आंच पर वापस से पकाएं | गाढ़ा होंने पर त्रिफला, त्रिकटु, वरना की छाल, इलायची, दालचीनी, तेजपात के चूर्ण को मिला कर गोलिया बना लें | अब इन्हें सुखा कर इनका उपयोग किया जा सकता हैं |

कांचनार गुग्गुल के फायदे Kanchnar guggul ke fayde

कांचनार गुग्गुल के फायदे herbal arcade
कांचनार गुग्गुल के फायदे herbal arcade

कंठमाला रोग में in throat disease

आयुर्वेद में गण्डमाला और अपची के नाम से भी इस रोग को जाना जाता हैं | इन्हें कंठमाला के भेद या अवस्था कहा जा सकता हैं | इस रोग में गले में उपस्थित ग्रंथिया बढ़ कर माला के समान हो जाती हैं इसलिए इसे कंठमाला कहा गया हैं |

गुग्गुल, गंधक और रसौत तीनो को बराबर मात्रा में लेकर जल में पीस कर गण्डमाला पर लेप करने से बहुत लाभ होता हैं | (आयुर्वेद सारसंग्रह)
गांठे उत्पन्न होने के साथ साथ इस रोग में जलन भी होती हैं | गांठो का आकार बढ़ जाने के बाद फूटकर उनसे मवाद भी निकलता हैं |

इस रोग के शुरुआत में ही यदि रोगी को कंचनार गुग्गुल का सेवन कराया जाये तो इससे लाभ मिलता हैं | थायराइड ग्रंथि द्वारा उत्पन्न हार्मोन का असंतुलन होने पर भी यह औषधि लाभ पहुँचाने में सहायक होती हैं |

थायराइड में

कंचनार गुग्गुल थायरायइड ग्रंथि से स्त्रावित होने वाले हार्मोन को नियंत्रित करती हैं और हायपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म जैसी समस्याओं से निकलने में सहायता करती हैं|

जाने थायरोग्रिट: थायराइड में

अर्बुद (गांठ) में

वात और कफ के कुपित होने से होने वाली गांठो में यह औषधि फायदेमंद होती हैं | गले और नाक के भीतर बढ़ने वाली गांठो में भी यह औषधि काम में ली जाती हैं | कंचनार गुग्गुल के औषधीय गुण गांठो में लाभ पहुंचाते हैं |

गुल्म रोग में in gum disease

पेट में वायु का गोला बनने को गुल्म रोग कहते हैं | नाभि के ऊपर स्थित गोले में जब कभी यह वायु का गोला आ कर रुक जाता तो इसे गुल्म रोग कहा जाता हैं | यह रोग वात, पित्त और कफ के कुपित होने के कारण होता है | यह शरीर के और भी हिस्सों पर हो सकता हैं | इस अवस्था में कंचनार गुग्गुल का उपयोग करने करने पर सहायता मिलती हैं |

कुष्ठ रोग में for leprosy

यह एक प्रकार का त्वचा रोग होता हैं जो व्यक्ति की आँखों, त्वचा मुख्य रूप से प्रभाव डालता हैं | कंचनार गुग्गुल का प्रयोग करने से इस रोग में लाभ मिलता हैं |

भगंदर रोग में for fisher

इस रोग में व्यक्ति के मलद्वार पर फोड़ा बन जाता हैं | इस रोग में गुदा द्वार की नली में घाव हो जाते हैं | घाव होने के बाद इससे मवाद और दूषित खून निकलता हैं जो बहुत पीड़ादायक होता हैं | कंचनार गुग्गुल का प्रयोग करने से भगंदर रोग में लाभ मिलता हैं |

कांचनार गुग्गुल की सेवन विधि Kanchnar guggul ki sevan vidhi

  • 2 से 4 गोली का सेवन सुबह शाम करना चाहिए |
  • इसका सेवन कांचनार की छाल, वरना की छाल, गोरखमुंडी और का क्वाथ बनाकर करना उचित रहता हैं |
  • विशेष लाभ न होने पर इसके साथ स्वर्ण भस्म, अष्टमांश रत्ती, और प्रवाल पंचामृत के साथ मिलकर देनी चाहिए |

कांचनार गुग्गुल का सेवन करते समय रखी जाने वाली सावधानियाँ Kanchnar guggul ke sevan ki savdhaniya

  • कंचनार गुग्गुल का सेवन करने पहले चिकित्सक की सलाह जरुर लें |
  • इसे सीधी धुप और रोशनी से दूर रखे |
  • इसका प्रयोग भोजन के बाद ही करना चाहिए |

कांचनार गुग्गुल की उपलब्धता Kanchnar guggul ki uplabdhta

  • दिव्य कांचनार गुग्गुल (DIVYA PHARMACY KANCHNAR GUGGUL)
  • डाबर कांचनार गुग्गुल (DABUR KANCHNAR GUGGUL)
  • बैधनाथ कांचनार गुग्गुल (BAIDYANATH KANCHNAR GUGGUL)
  • धूतपापेशवर कांचनार गुग्गुल (DHOOTPAPESHWAR KANCHNAR GUGGUL)
  • झंडू कांचनार गुग्गुल (ZANDU KANCHNAR GUGGUL)
  • दीप आयुर्वेदा कांचनार गुग्गुल (DEEP AYURVEDA KANCHNAR GUGGUL)

2 thoughts on “कांचनार गुग्गुल: फायदे, सेवन Kanchnar guggul: Benefits

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *