kaishore guggul ke fayde herbal arcade
औषधी दर्शन

जानिए कैशोर गुग्गुल के 12 चमत्कारी गुण और उसके उपयोग

कैशोर गुग्गुल का परिचय Kaishore guggul ka parichay: Benefits, doses

कैशोर गुग्गुल क्या हैं?Kaishore guggul kya hai?

यह एक आयुर्वेदिक औषधि होती हैं जो बहुत सारे फायदों से भरपूर होती हैं | कैशोर गुग्गुल शरीर में वात और रक्त दोष के कारण उत्पन्न सभी समस्याओं को यह औषधि समाप्त करने में सहायता करती हैं | रक्त और वायु विकार से उत्पन्न बिमारिया जैसे त्वचा रोग, वात रक्त, कुष्ठ, गुल्म, शोथ आदि रोगों से ग्रसित लोगो को इस वटी का सेवन जरुर करना चाहिए|
इन सब के अतिरिक्त घाव, खांसी, उदर रोग, प्रमेह, मंद पाचक अग्नि जैसे विविध रोगों का नाश भी इस औषधि का सेवन करके किया जा सकता हैं | इस गुग्गुल का सेवन से शरीर में उपस्थित आमविष का नाश होता हैं| यह वात, पित्त और कफ का संतुलन करती हैं|

केशोर गुग्गुल के घटक द्रव्य Kaishore guggul ke ghatak

  • त्रिफला
  • गिलोय
  • गूगल
  • सोंठ
  • काली मिर्च
  • पीपल
  • वायविडंग
  • जमालगोटे की जड़
  • निशोथ
  • घी या एरंड का तेल
kaishore guggul contents herbal arcade
kaishore guggul contents herbal arcade

कैशोर गुग्गुल बनाने की विधि Kaishore guggul ki vidhi

इस औषधि को बनाने के लिए त्रिफला और गिलोय को कूट कर इनका काढ़ा बनाये | जब आधा जल शेष रह जाए तो इसे उतार दें और छान लें| अब इसमें गूगल मिला कर फिर से मंद आंच पर पकाए |
गूगल जब पतला हो कर काढ़े में मिल जाये तब छान कर उसको फिर से आंच पर चढ़ाये ओए हिलाते रहें| जब यह मिश्रण गाढ़ा हो जाये तब उसमे बाकी बची औषधियां मिला कर घी या एरंड के तेल से कूट कर गोलियां बना लें| अन इन्हें सुखा कर उपयोग में लिया जा सकता हैं|

कैशोर गुग्गुल के फायदे Kaishore guggul ke fayde

kaishore guggul ke fayde herbal arcade
kaishore guggul ke fayde herbal arcade

आमवात में aamvaat me

शरीर में आम विष बढ़ जाने के कारण यह समस्या आने लगती हैं| इस रोग में जोड़ो में सूजन के साथ साथ चुभन, दर्द जैसी पीड़ा होती हैं| कुछ दिनी में यह स्थिति यहाँ ना होकर शरीर के किसी और जोड़ में होने लगती हैं| केशोर गुग्गुल का सेवन करने से शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा कम होती हैं और व्यक्ति को आमवात से आराम मिलता हैं|

आमवात में: आमवातारि रस

कुष्ठ रोग में kusth rog me

त्रिदोष के असंतुलित होने पर उत्पन्न कुष्ठ रोग इस औषधि के माध्यम से समाप्त करने में सहायता ली जा सकती हैं| यह औषधि वायु और रक्त विकार से जुडी सभी समस्याओं का समाधान करती हैं इसलिए इस औषधि का सेवन कर इन दोषों को संतुलित कर के कुष्ठ रोग को समाप्त किया जा सकता हैं|

त्वचा रोगों में for skin disease

फोड़े, फुंसी, दाद, खाज, खुजली, एलर्जी, त्वचा पर चकते आदि जैसी त्वचा से जुडी हुई बीमारियाँ इस औषधि का सेवन करने से दूर की जा सकती हैं| यह औषधि रक्त विकार को समाप्त कर त्वचा रोगों में भी लाभ पहुंचाती हैं|

गुल्म रोग में in gum disease

यह रोग व्यक्ति के शरीर में वायु दोष के कारण उत्पन्न होता हैं|इस रोग में नाभि के ऊपर एक खाली स्थान पर वायु का गोला रुक जाता हैं जिससे व्यक्ति को पेट दर्द, गोले की जगह उभार बन जाना जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं|
यह रोग शरीर के और भी हिस्सों जैसे दाईं कोख, बाईं कोख, हृदय , नाभि और पेडू या मूत्राशय आदि जगह भी हो सकता हैं| इसमें पेट फूलना, कब्ज़, अधिक डकारें आना, भोजन में अरुचि आदि इस रोग के लक्षण होते हैं|
इस औषधि का प्रयोग इस रोग में करने पर लाभ पहुंचता हैं|

सूजन में for inflammation

केशोर गुग्गुल का प्रयोग शरीर में आई सूजन को समाप्त करने में भी किया जाता हैं| यह औषधि वात, पित्त और कफ का संतुलन कर सूजन को समाप्त करने में सहायता प्रदान करती हैं|

कैशोर गुग्गुल के अन्य फायदे Kaishore guggul ke any fayde

  • घाव में
  • खांसी में
  • उदर रोग में
  • प्रमेह में
  • मन्दाग्नि में
  • मेटाबोलिज्म बढ़ाएं
  • आमविष की समाप्ति

कैशोर गुग्गुल की सेवन विधि Kaishore guggul ki sevan vidhi

  • 2 से 4 गोली का सेवन सुबह शाम मंजिष्ठादि क्वाथ, गर्म जल या दूध के साथ करना चाहिए|

कैशोर गुग्गुल का सेवन करते समय रखी जाने वाली सावधानियाँ Kaishore guggul ke sevan ki savdhaniya

  • इस औषधि का सेवन करने से पहले चिकित्सक की सलाह जरुर लें|
  • यदि आप पहले से ही किसी बीमारी से ग्रस्त हैं तो इसका सेवन करने से पहले चिकित्सक से परामर्श जरुर लें|

कैशोर गुग्गुल की उपलब्धता Kaishore guggul ki uplabdhta

  • दिव्य कैशोर गुग्गुल (DIVYA PHARMACY KAISHORE GUGGUL)
  • बैधनाथ कैशोर गुग्गुल (BAIDYANATH KAISHORE GUGGUL)
  • डाबर कैशोर गुग्गुल (DABUR KAISHORE GUGGUL)
  • दीप आयुर्वेदा कैशोर गुग्गुल (DEEP AYURVEDA KAISHORE GUGGUL)
  • धूतपापेशवर कैशोर गुग्गुल (DHOOTPAPESHWAR KAISHORE GUGGUL)